गुझिया की महक आने से पहले रंगों में रंगने से पहले होली के नशे में डूबने से पहले हम आपसे कहते है हैप्पी होली सबसे पहले

दिलो के मिलने का मौसम है दूरियां मिटाने का मौसम है होली का त्यौहार ही ऐसा है रंगो में डूब जाने का मौसम है

निकलो गलियों में बना कर टोली भिगा दो आज हर एक की झोली कोई मुस्कुरा दे तो उसे गले लगा लो वरना निकल लो, लगा के रंग कह के हैप्पी होली

हवाओ के साथ अरमान भेजा है, नेटवर्क के ज़रिये पैगाम भेजा है, वो हम हैं जिसने सबसे पहले, होली का राम-राम भेजा।

गुलाल का रंग, गुब्बारों की मार, सूरज की किरणें, खुशियों की बहार, चाँद की चांदनी, अपनों का प्यार, मुबारक हो आपको रंगों का त्यौहार..!!

प्यार के रंगों से भरो पिचकारी स्नेह के रंगों से रंग दो दुनिया सारी ये रंग न जाने न कोई जात न बोली सबको हो मुबारक ये हैप्पी होली

पिचकारी की धार, गुलाल की बौछार, अपनों का प्यार,यही है यारों होली का त्यौहार. हैप्पी होली!!!!

इस से पहले होली की शाम हो जाए, बधाइयों का सिलसिला आम हो जाए, भीड़ मे शामिल हमारा नाम हो जाए क्यू ना होली की अभी से राम राम हो जाए

हफ़्तों तक खाते रहो, गुझिया ले ले स्वाद. मगर कभी मत भूलना नाम भक्त प्रहलाद.

मक्के की रोटी निम्बू का अचार सूरज की किरणें खुशियों की बहार चाँद की चांदनी अपनों का प्यार मुबारक हो आपको होली का त्यौहार

भाभी के संग होली