महिला ओ के पैन कार्ड में पति की जगह पिता का नाम क्यों होता है

1. भारत में एक लड़की की शादी होने के बाद उसकी पहचान बदल जाती है। तमाम सरकारी दस्तावेजों में और पहचान पत्रों में पिता के स्थान पर पति का नाम दर्ज किया जाता है

2. लेकिन PAN CARD एक ऐसा दस्तावेज है जिसमे शादी के बाद भी लड़की के पिता का नाम प्रदर्शित होता है आखिर क्यों आयकर विभाग पति को मान्यता क्यों नहीं देता

3. ऐसा नहीं है कि आयकर विभाग पति या परिवार को मान्यता नहीं देता बल्कि विभिन्न प्रकार के दस्तावेजों में पूरे परिवार की जानकारी होती है Pan का फुल फॉर्म परमानेंट अकाउंट नंबर है

4. परमानेंट का आशय मनुष्य के जन्म से लेकर मृत्यु तक एक ही अकाउंट नंबर होना। भले ही विवाह सात जन्मों का बंधन हो परंतु कानून में तलाक की व्यवस्था भी है 

5. मान लीजिये एक औरत के पति की मृत्यु हो जाती है और फिर औरत दूसरी शादी कर लेती है तो उसके पति का नाम बादल जाएगा जिसके लिए पैन कार्ड को फिर से अपडेट करवाना पड़ सकता है 

6. इसी लिए पिता के नाम को ही स्वीकृति दी जाती है। अगर पिता की मृत्यु होती भी है तो उनका रिश्ता तो वही रहेगा

7. बस इसी वजह से pan card में पति के नाम की जगह पिता के नाम तो ज्यादा महत्व दिया जाता है ।